ऋषभ पंत ने अपनी सेहत को लेकर दिया बड़ा अपडेट

 
ऋषभ पंत

दोस्तों भारतीय क्रिकेट टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत का पिछले महीने 30 दिसंबर को एक भयंकर एक्सीडेंट हो गया था जिसमें उनकी कार जलकर राख हो गई थी और ऋषभ पंत को भी काफी चोट आई थी उसके बाद में उन्हें देहरादून के अस्पताल में भर्ती कराया गया और बाद में मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। ऋषभ पंत नए साल के अवसर पर अपनी फैमिली को सरप्राइज देने के लिए रुड़की जा रहे थे और दिल्ली देहरादून हाईवे पर उनकी कार डिवाइडर से जा टकराई थी कुछ लोगों ने उन्हें कार से बाहर निकाला और हॉस्पिटल पहुंचाया।

ऋषभ पंत एक्सीडेंट के बाद से पहली बार अपनी हेल्थ पर अपडेट दिया है और उन लोगों को धन्यवाद किया है जो उनसे मिलने आए और उनके जल्द ठीक होने की कामना की। इसके अलावा ऋषभ पंत ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को भी धन्यवाद कहा है। जिन्होंने ऋषभ पंत के एक्सीडेंट के बाद हर पल उनके स्वास्थ्य की फिक्र की और उन्हें सर्वश्रेष्ठ इलाज देने के लिए हर प्रयास किया। भारत के इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने सोशल मीडिया पर बताया है कि उनका जो सर्जरी का ऑपरेशन हुआ था वह सक्सेसफुल रहा है और वह हर दिन अच्छा महसूस कर रहे हैं और जल्द ही रिकवर हो रहे हैं।

ऋषभ पंत

सर्जरी सफल रही

ऋषभ पंत ने कहा कि "मैं सभी समर्थन और शुभकामनाओं के लिए विनम्र और आभारी हूं। मुझे आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि मेरी सर्जरी सफल रही। रिकवरी का रास्ता शुरू हो गया है और मैं आगे की चुनौतियों के लिए तैयार हूं। @BCCI को धन्यवाद, @JayShah और सरकारी अधिकारियों को उनके अविश्वसनीय समर्थन के लिए। अपने दिल की गहराई से, मैं अपने सभी प्रशंसकों, साथियों, डॉक्टरों और फिजियो को भी आपकी तरह के शब्दों और प्रोत्साहन के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। आप सभी को मैदान पर देखने के लिए उत्सुक हूं। #Grateful #blessed ”

नए साल के अवसर पर पंत दिल्ली से अपने घर रुड़की के लिए अपनी लग्जरियस कार में ड्राइव करते हुए जा रहे थे और सुबह के टाइम ही इसी रोड पर एक डिवाइडर से टकरा जाने की वजह से उनका एक्सीडेंट हो गया और उनकी कार जलकर राख हो गई। उन्हें हरियाणा रोडवेज के ड्राइवर ने कार से बाहर निकाला और बाद में एंबुलेंस को बुलाकर पास ही के अस्पताल में भर्ती करवाया इसके बाद में बीसीसीआई ने 4 जनवरी को उन्हें मुंबई के कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल में भर्ती करवाया जहा इनका इलाज चल रहा है।