डेविड वॉर्नर ने बताया कब लेंगे इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास

 
डेविड वॉर्नर

ऑस्ट्रेलिया टीम के महान बल्लेबाज अपनी टीम के लिए सभी फॉर्मेट में शानदार प्रदर्शन किया और एक कामयाब ओपनर की भूमिका निभाई। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया टीम की कप्तानी भी संभाली थी लेकिन अभी उन्हें कप्तानी से बेन कर दिया गया। हाल ही में डेविड वॉर्नर ने यह खुलासा कर दिया है कि वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले हैं और कहा है कि शायद 2023 उनका अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आखिरी साल हो लेकिन इसी के साथ उन्होंने यह भी एडमिट किया है कि वह T20 वर्ल्ड कप 2023 में अपनी टीम ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलना चाहेंगे।

डेविड वॉर्नर ने 2009 में अपनी टीम ऑस्ट्रेलिया के लिए डेब्यू किया था और उसके बाद से टेस्ट, टी20 और वनडे क्रिकेट में उन्होंने काफी अच्छा काम किया और गेंदबाजों की काफी पिटाई की। आईपीएल में भी उन्होंने सनराइजर्स हैदराबाद को ट्रॉफी जिताई थी और हर साल काफी रन बनाते हैं। डेविड वॉर्नर ऑस्ट्रेलिया टीम के महानतम बल्लेबाजों में से एक हैं और हमेशा रहेंगे।

टीम की जीत में काफी योगदान दिया

उन्होंने समय-समय पर अपनी टीम की जीत में काफी योगदान दिया है तथा काफी यादगार जीतो में उनका योगदान जरूर है। टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 101 पारी खेली है जिनमें उन्होंने 8132 रन बनाए। इस दौरान उनका औसत 46.20 का रहा और 25 शतक तथा 37 अर्धशतक बनाए है। डेविड वॉर्नर का अधिकतम स्कोर 335 रन नाबाद है। ऑस्ट्रेलिया के लिए इन्होंने 141 वन डे मैच खेले है और 45.16 की औसत से 6007 रन बनाए जिनमे 19 शतक और 27 अर्धशतक शामिल है। वनडे क्रिकेट के वॉर्नर का अधिकतम स्कोर 179 रन है।

13 जनवरी को नौ साल में अपने पहले बिग बैश मैच से पहले स्काई स्पोर्ट्स से बात करते हुए, डेविड वार्नर ने कहा: "यह संभवतः मेरे अंतरराष्ट्रीय करियर का आखिरी साल होगा। मेरी नजर 2024 [टी20] पर है।" विश्व कप भी, इसलिए अमेरिका में खत्म हो रहा है, वहां जीत के साथ शीर्ष पर रहना अच्छा होगा, चयन लंबित है।" 

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि डेविड वार्नर 9 साल में पहली बार ऑस्ट्रेलिया में चल रहे बिग बैश लीग के सीजन में खेल रहे हैं। इस बारे में बात करते हुए कि उन्होंने बीबीएल में वापसी का विकल्प क्यों चुना, वार्नर ने अगस्त में एक साक्षात्कार में कहा (जैसा कि सिडनी थंडर की आधिकारिक वेबसाइट द्वारा बताया गया है), उन्होंने कहा: "मैं खेल के बारे में गहराई से परवाह करता हूं, और मैं सचेत हूं कि मैं जिन परिस्थितियों का आनंद लेता हूं एक पेशेवर क्रिकेटर के रूप में बड़े पैमाने पर अन्य सीनियर खिलाड़ी जो मुझसे पहले आए हैं। इस तरह खेल चलता रहता  है और मैं समझता हूं कि बीबीएल के भविष्य में मेरे योगदान से अगली पीढ़ी के खिलाड़ियों को मेरे सेवानिवृत्त होने के लंबे समय तक फायदा होगा। "