IPL 2023 -: यह 5 महान क्रिकेटर रहे हैं मुंबई इंडियंस का हिस्सा

 
IPL 2023

मुंबई इंडियंस की टीम आईपीएल की सबसे सफल और लोकप्रिय टीमों में से एक है।  टीम ने रोहित शर्मा के नेतृत्व में तीन बार आईपीएल और दो बार चैंपियंस लीग टी20 का खिताब भी जीता है।  मुंबई ने साल 2013, 2015 और 2017 में आईपीएल का खिताब अपने नाम किया था। लेकिन इस टीम में कई ऐसे महान खिलाड़ी भी थे जो कभी मुंबई इंडियंस टीम का हिस्सा थे।

सनथ जयसूर्या

सनथ जयसूर्या

श्रीलंका के लिए कई मैचों में बड़ी पारियां खेल चुके श्रीलंका के महान और विस्फोटक बल्लेबाज सनथ जयसूर्या 2008 में मुंबई इंडियंस का हिस्सा बने थे। जयसूर्या में अक्सर शुरुआती ओवरों से ही आक्रामक पारी खेलने की क्षमता थी।  वह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में श्रीलंका के लिए जो काम करते थे, वह आईपीएल में मुंबई के लिए भी करते थे। जयसूर्या का पहला आईपीएल शानदार रहा।  उन्होंने 14 मैचों में 44.90 की औसत से 494 रन बनाए, जिसमें एक शतक और दो अर्धशतक शामिल हैं।  अपने आईपीएल करियर की बात करें तो वह मुंबई के लिए पहले तीन सीज़न में दिखाई दिए, जिसमें उन्होंने 30 मैचों में 27.43 की औसत से 768 रन बनाए।

शॉन पोलॉक

शॉन पोलॉक

दक्षिण अफ्रीका के ऑलराउंडर शॉन पोलक भी मुंबई इंडियंस का हिस्सा हुआ करते थे।  शॉन पोलक दक्षिण अफ्रीका के महान खिलाड़ियों में से एक हैं।  पोलक ने मुंबई के लिए केवल एक सीज़न खेला है, और कुछ सीज़न के लिए एक मेंटर के रूप में टीम के साथ जुड़े रहे हैं। हरभजन सिंह और श्रीसंत विवाद में हरभजन सिंह को आईपीएल से निलंबित किए जाने के बाद शॉन पोलक ने मुंबई इंडियंस की कमान संभाली।  मुंबई की टीम पहले सीजन में पहले चार मैचों में हार गई थी, लेकिन उसके बाद जब पोलक टीम के कप्तान बने तो उन्होंने आईपीएल में पहला मैच टीम को जिताया।  इसके बाद उन्होंने शानदार कप्तानी के साथ मुंबई को आईपीएल में वापसी दिलाई।  पोलक ने आईपीएल में 13 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 18.57 की औसत से बल्ले से 130 रन बनाए और उसी गेंदबाजी में 11 विकेट लिए।

एंड्रयू साइमंड्स

एंड्रयू साइमंड्स

ऑस्ट्रेलिया के खतरनाक ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स आईपीएल के पहले तीन डेक्कन चार्जेज के लिए खेले।  इसके बाद वह 2011 के आईपीएल में मुंबई इंडियंस का हिस्सा बने।  यह पहली बार था जब एंड्रयू साइमंड्स और हरभजन सिंह दोनों एक ही टीम के लिए एक साथ खेले।  दोनों को सिडनी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2008 के टेस्ट मैच के दौरान मंकीगेट विवाद के लिए सबसे ज्यादा याद किया जाता है।  साइमंड्स ने मुंबई के लिए सिर्फ एक सीजन खेला था, उस सीजन में एंड्रयू साइमंड्स का प्रदर्शन काफी खराब रहा था।  साइमंड्स ने मुंबई के लिए 11 मैचों में 33.75 की औसत से सिर्फ 135 रन बनाए, जिसमें उनका सर्वोच्च स्कोर 44 रहा। इसके बाद साइमंड्स ने आईपीएल से संन्यास ले लिया।

रिकी पोंटिंग

रिकी पोंटिंग

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान और महान बल्लेबाज रिकी पोंटिंग भी मुंबई इंडियंस का हिस्सा रह चुके हैं।  पोंटिंग ने अपना पहला आईपीएल सीजन कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेला था।  एक समय ऐसा भी आया जब पोंटिंग की तुलना क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर से की जाती थी। 2013 में रिकी पोंटिंग को मुंबई इंडियंस की कमान सौंपी गई थी।  उस सीजन में जब पोंटिंग और सचिन तेंदुलकर दोनों ही पारी की शुरुआत करने आते थे और तब फैंस के चेहरे पर एक अलग ही खुशी नजर आती थी। हालांकि वह सीजन पोंटिंग के लिए अच्छा नहीं था।  उन्होंने उस सीजन में मुंबई के लिए छह मैचों में 10.40 के खराब औसत से सिर्फ 52 रन बनाए थे।  उन्होंने पहले छह मैचों में कप्तानी करने के बाद कप्तानी से इस्तीफा दे दिया।  इसके बाद टीम की कमान रोहित शर्मा को सौंपी गई।  पोंटिंग अगले कुछ सत्रों के लिए मुंबई के साथ बल्लेबाजी कोच के रूप में जुड़े रहे।

सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर

क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर मुंबई इंडियंस की लोकप्रियता का सबसे बड़ा कारण हैं।  सचिन तेंदुलकर शुरू से ही मुंबई इंडियंस से जुड़े रहे हैं।  सचिन छह सीजन तक बतौर खिलाड़ी मुंबई इंडियंस के लिए खेले, बाद में वे टीम के मेंटर और आइकॉन खिलाड़ी बने। सचिन ने चार सत्रों में मुंबई इंडियंस की कप्तानी की, जिसमें उनके नेतृत्व में टीम 2010 में फाइनल में पहुंची, लेकिन खिताब जीतने से चूक गई।  सचिन ने 2010 के आईपीएल में सबसे अधिक रन बनाकर ऑरेंज कैप जीती और आईपीएल में ऑरेंज कैप जीतने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बने। उस सीजन में सचिन ने 15 मैचों में 47.53 की औसत से 618 रन बनाए थे, जिसमें पांच अर्धशतक शामिल हैं।  उनके कुल आईपीएल करियर की बात करें तो उन्होंने 78 मैचों में 34.83 की औसत से 2334 रन बनाए हैं, जिसमें 13 अर्धशतक और एक शतक शामिल है।  कोई भी फैन सचिन के बिना मुंबई इंडियंस की टीम की कल्पना भी नहीं कर सकता।