IPL 2023: ये 5 बल्लेबाज करते हैं धीमी बल्लेबाज़ी लेकिन इनकी टीमें इस चीज़ को करती हैं नजरअंदाज

 
ipl

आईपीएल 2023 टूर्नामेंट का 16वां संस्करण होगा और अगले साल के बाद आईपीएल से कुछ बड़े खिलाडी सन्यास ले सकते हैं। इस लेख में, हम कुछ बल्लेबाजों के बताएंगे, जिनकी स्ट्राइक रेट है कम हैं  लेकिन उनकी टीम मैनेजमेंट ने इसके बावजूद भी उन्हें अपनी टीम में रखा हैं और हर मैच खिलाती हैं।

यहां 5 बल्लेबाज हैं जिनके स्ट्राइक रेट कम हैं लेकिन उनकी टीम ने अक्सर नजरअंदाज कर दिया है:

केन विलियमसन

केन विलियमसन

सनराइजर्स हैदराबाद के कप्तान केन विलियमसन की आईपीएल में स्ट्राइक रेट 93 की हैं। यानी व 93 रन बनाने के लिए 100 गेंदे खेलते हैं। फिर भी हैदराबाद की टीम ने ना सिर्फ उनको अपनी टीम में रखा था बल्कि दल का कप्तान भी बनाया था। यह वही हैदराबाद फ्रैंचाइज़ी है जिसने डेविड वार्नर को कुछ मैचों में खराब प्रदर्शन के बाद टीम से बाहर कर दिया था।  लेकिन उसी टीम मैनेजमेंट ने स्ट्राइक रेट कम होने के बाद भी सार्वजनिक रूप से केन विलियमसन का समर्थन किया।

केएल राहुल

केएल राहुल

जब स्ट्राइक रेट की बात आती है तो केएल राहुल आलोचना भी होती हैं। वे जितने अच्छे बल्लेबाज है उनकी स्ट्राइक रेट इतनी बढ़िया नहीं है। राहुल ने पंजाब और लखनऊ के लिए पिछले चार आईपीएल सीज़न में 135, 129, 138 और 135 की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी की है। यहां तक ​​कि ये स्ट्राइक रेट भी उनकी पारी के आखिर में कुछ बड़े शॉट्स खेलने की वजह से बढे हैं। केएल राहुल की आलोचना यह रही है कि वह धीमी शुरुआत करते हैं, और पावरप्ले में पर्याप्त जोखिम नहीं लेते हैं, जो कि मैदान के प्रतिबंधों का अधिकतम लाभ उठाने का सबसे अच्छा समय है।

रोहित शर्मा

रोहित शर्मा

रोहित शर्मा की बल्लेबाजी का तरीका पिछले साल तक केएल राहुल जैसा ही था, उन्होंने इस साल से अपनी स्ट्राइक रेट पर थोड़ा ध्यान देना शुरू किया है। आईपीएल 2022 में, भले ही रोहित शर्मा ने आक्रामक और जोखिम भरे शॉट खेलने की कोशिश की, फिर भी उनका स्ट्राइक रेट 120 का रहा।

IPL

देवदत्त पडिक्कल

युवा बाएं हाथ के देवदत्त पडिक्कल हर मायने में अच्छे बल्लेबाज हैं और यहां तक ​​कि भारतीय टीम का भविष्य भी माने जाते हैं लेकिन शायद T20 फॉर्मेट में नहीं। पडिक्कल आईपीएल के तीन सीज़न खेले हैं और उनके तीन आईपीएल सीज़न में उनका स्ट्राइक रेट 124, 125 और 122 रहा हैं। अनुभव की कमी होने के कारण देवदत्त पडिक्कल को उनकी कम स्ट्राइक रेट के लिए माफ़ कर दिया गया है, लेकिन शायद अगले सीज़न से नहीं।

फाफ डु प्लेसिस

फाफ डु प्लेसिस

पिछले सीजन में आरसीबी के कप्तान फाफ डु प्लेसिस से उनके स्ट्राइक रेट के बारे में शायद ही कभी किसी ने सवाल किया हो। पिछले सीज़न में उनका स्ट्राइक रेट मात्र 127 था। वे अब भी स्पिनरों के खिलाफ तेज़ गति से रन नहीं बना पाते हैं। हालांकि आरसीबी के टीम मैनेजमेंट ने इस बात को नज़रंदाज़ किया है।