अपने नाम पर बने स्टेडियम में खलेकर अद्भुत रिकॉर्ड बनाएगा ये भारतीय खिलाड़ी

 
अभिमन्यु इस्वरण

दोस्तों ऐसे तो क्रिकेट में बहुत सी खबरें आती रहती हैं और बहुत से रिकॉर्ड बनते रहते हैं लेकिन कई रिकॉर्ड अपने आप में बहुत ही अतरंगे होते हैं। दुनिया में कई खिलाड़ियों के नाम पर स्टेडियम में जगह होती है और कई खिलाड़ियों के नाम पर तो स्टेडियम भी बनाए जाते हैं। लेकिन यह सब अक्सर तब होता है जब वह खिलाड़ी क्रिकेट में बहुत बड़ा नाम करके रिटायर हो चुका होता है। इसलिए वह खिलाड़ी अपने ही नाम पर बने स्टेडियम में मैच नहीं खेल पाता लेकिन अब ऐसा होने जा रहा है कि एक भारतीय खिलाड़ी अपने नाम पर बने एक स्टेडियम में मैच खेल कर अलग ही रिकॉर्ड बना देगा।

हालांकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसा कोई भी खिलाड़ी नहीं है जो अपने नाम से बने स्टेडियम में क्रिकेट खेला हो लेकिन घरेलू क्रिकेट में यह दूसरी बार होने जा रहा है तथा भारत में ऐसा पहली बार होगा कि कोई खिलाड़ी अपने नाम पर बने स्टेडियम में मैच खेलेगा। हम भारतीय खिलाड़ी अभिमन्यु इस्वरण की बात कर रहे हैं जो कि देहरादून में जन्मे थे लेकिन बिहार की तरफ से क्रिकेट खेलते हैं। अभिमन्यु ईश्वरन के पिता आरपी ईश्वरन ने उत्तराखंड में ही एक जमीन खरीद कर उस पर एक क्रिकेट स्टेडियम बनाने हैं की सूची और इसका नाम अभिमन्यु क्रिकेट एकेडमी रखा। यह स्टेडियम का नाम महाभारत में अर्जुन के पुत्र अभिमन्यु के नाम से लिया गया था लेकिन आरपी इस्वरन के बेटे का नाम भी अभिमन्यु ही है।

बिहार की तरफ से मैच में खेलने वाले हैं अभिमन्यु इस्वरण 

अब 3 जनवरी को बिहार और उत्तराखंड की टीम का मैच इस मैदान पर होने वाला है और बिहार की तरफ से अभिमन्यु इस्वरण इस मैच में खेलने वाले हैं। जैसे ही वह इस मैदान पर खेलेंगे तो उनके नाम यह रिकॉर्ड हो जाएगा और वह डेरेन सैमी की बराबरी कर लेंगे जिन्होंने भी घरेलू मैचों में अपने नाम पर बने एक स्टेडियम में मैच खेला हुआ है। इन दोनों के अलावा अभी तक कोई भी ऐसा खिलाड़ी नहीं है जिसने अपने नाम पर बने स्टेडियम में मैच खेला हो।

अपने PTI से बात करते हुए अभिमन्यु ईश्वर ने बताया था कि मुझे इस मैदान पर आकर क्रिकेट खेलने में बहुत अच्छा लगता है मैंने अपने बचपन में इसी मैदान पर बहुत सारे मैच खेले थे और यहीं पर मैंने क्रिकेट की ट्रेनिंग ली थी। मैं पहली बार इस मैदान पर रणजी ट्रॉफी का मैच खेल रहा हूं। हालांकि मेरी जन्म भूमि देहरादून है लेकिन फिर भी मैं बंगाल के लिए खेल रहा हूं और उसी को मैच जिताने के लिए पूरा दम लगाऊंगा।