टीम इंडिया में नाइंसाफी के शिकार इस खिलाडी ने दिखाया दम

 
टीम इंडिया

भारतीय टीम के एक खिलाड़ी के साथ बेहद ही नाइंसाफी हो रही है लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद भी इस खिलाड़ी को भारतीय टीम में बिल्कुल भी मौका नहीं दिया जा रहा है हालांकि अब इस खिलाड़ी ने अपने बल्ले से धूम मचाते हुए सिलेक्टर्स को अपनी काबिलियत दिखा दी है. दरअसल हम बात कर रहे हैं मुंबई के युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल के बारे में जिन्होंने हाल ही में रणजी ट्रॉफी के ग्रुप बी मैच में तमिलनाडु के खिलाफ बल्ले से जमकर रन जड़े तमिलनाडु के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के ग्रुप बी मैच में यशस्वी जायसवाल ने 66 रनों की पारी खेली। 

तूफानी पारी खेल कर सिलेक्टर्स की बोलती बंद कर दी

रणजी ट्रॉफी ग्रुप बी के मैच में यशस्वी जायसवाल ने मुंबई की ओर से खेलते हुए तमिलनाडु के खिलाफ 66 रनों की बेहतरीन पारी खेली थी हालांकि उनकी इस पारी के बावजूद भी मुंबई की टीम जीत से 74 रनों से दूर रह गई। 212 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी मुंबई ने 24.2 ओवर में 3 विकेट के नुकसान पर 137 रन बना लिए थे तब दोनों कप्तान ने मैच को ड्रॉ करने की सहमति जताई उस समय मुंबई के युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने 66 रनों की पारी खेलते हुए सिलेक्टर्स को बता दिया कि वह कितने काबिल बल्लेबाज है।

विजय शंकर ने बनाए 103 रन

तमिलनाडु की बीते दिन 4 विकेट के नुकसान पर 380 रनों से आगे खेलना प्रारंभ किया था जिसके बाद 168 रन बनाकर पूरी टीम ऑल आउट हो गई तमिलनाडु की ओर से विजय शंकर ने 174 गेंदों का सामना करते हुए 103 रनों की पारी खेली थी जबकि प्रदोष रंजन ने भी नाबाद 107 रन बनाए।

मैच ड्रॉ करना सही समझा

एक सत्र में 212 रनों का पीछा करते हुए मुंबई की ओर से यशस्वी जायसवाल और पृथ्वी शॉ ने टीम को शानदार शुरुआत दिलाई। जिसके बाद एल विग्नेश में जयसवाल के रूप में तमिलनाडु को पहली सफलता दिलाई। इसके बाद कप्तान अजिंक्य रहाणे 11 रन बनाकर आउट हो गए और फिर मैच को ड्रॉ करना ही सही समझा।