केएल राहुल को विश्व कप 2023 से कर देना चाहिए ड्रॉप?

 
केएल राहुल

केएल राहुल ने साल 2022 का अंत 27 के औसत और 10 एकदिवसीय मैचों में 80 के स्ट्राइक रेट के साथ किया। यह उनके सबसे खराब अंतरराष्ट्रीय कैलेंडर वर्षों में से एक था, क्योंकि केएल राहुल को आईपीएल 2022 के बाद हुई हर्निया की चोट से गुजरना पड़ा। इसी के साथ अन्य दो प्रारूपों में भी उन्होंने बड़ी और प्रभावशाली पारी के लिए संघर्ष किया।

साल 2023 की शुरुआत में, केएल राहुल को भी पेशेवर रूप से नुकसान हुआ था, जब सफेद गेंद वाली भारतीय टीमों में हार्दिक पंड्या को श्रीलंका के खिलाफ रोहित शर्मा के उप-कप्तान के रूप में नियुक्त किया गया था। श्रीलंका के खिलाफ राहुल टीम में एक खिलाड़ी (कीपर-बल्लेबाज) के रूप में ही साथ थे।

केएल राहुल सीमित ओवरों में पहले जैसी गारंटी नहीं दे रहे 

इसका साफ मतलब है कि चयनकर्ताओं की नजर में केएल राहुल भारत की सीमित ओवरों की एकादश में उस तरह की गारंटी नहीं है जैसे वह पिछले दो-तीन सालों में रहे हैं। चयनकर्ता और प्रशंसक, बेशक, केएल राहुल से अधिक चाहते हैं, लेकिन बल्लेबाज ने अधिकतर बार निराश किया है।

ओपनिंग स्लॉट अब केएल राहुल के लिए उपलब्ध नहीं है, उनकी जगह रोहित शर्मा के साथ पिछले साल वनडे में 70 की औसत से रन बनाने वाले गिल और वनडे में सबसे तेज दोहरा शतक जड़ने वाले किशन जोड़ीदार के दावेदार हैं। इसका मतलब है कि केएल राहुल को मध्य क्रम में बल्लेबाज़ी करते नज़र आने वाले हैं। 

अगर किशन गिल से आगे निकल जाते हैं, तो केएल राहुल केवल एक बल्लेबाज के रूप में खेलेंगे। उन्हें बल्ले से अपने चयन को साबित करना होगा और उसे सही ठहराना होगा। पंत के लिए, T20Is में उनके संघर्ष के बावजूद ऐसा होने की कम है कि प्रबंधन उन्हें एकदिवसीय प्रारूप में नज़र अंदाज़ करेगा, उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ एक शतक बनाया है। 

2023 विश्व कप बहुत दूर नहीं है, प्रबंधन और चयनकर्ताओं को अपने खिलाड़ियों को एक विशेष भूमिका में पर्याप्त मैच देने होंगे ताकि उन्हें एकदिवसीय क्रिकेट के लिए बेहतर तैयार किया जा सके, जो पिछले दो वर्षों से बैकसीट पर है। केएल राहुल ने अतीत में नंबर 5 पर अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने इस स्थान पर 49 की औसत से 13 पारियों में 108 की स्ट्राइक रेट से रन बनाये हैं।