रिकॉर्ड तोड पारी के लिए रोहित शर्मा ने की शुभमन गिल की तारीफ

 
रोहित शर्मा

दोस्तों भारतीय क्रिकेट के उभरते हुए सितारे शुभमन गिल ने न्यूजीलैंड के खिलाफ हुए पहले वनडे मैच में अपना दमखम दिखाते हुए उस ग्रुप में शामिल हो गए हैं जिसमें दिग्गज सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ी हैं। न्यूजीलैंड के खिलाफ खेले गए पहले वनडे मैच में शुभमन गिल ने शानदार खेल का प्रदर्शन करते हुए कीवी गेंदबाजों को मैदान के चारों तरफ दौड़ाया और अपनी पहली डबल सेंचुरी लगा दी। इसके साथ ही वह पांचवें भारतीय बल्लेबाज बन गए जिसने वनडे क्रिकेट में डबल सेंचुरी बनाई हो। भारत की तरफ से सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, रोहित शर्मा और ईशान किशन के बाद अब ऐसे बल्लेबाज बन गए जिस ने वनडे में डबल सेंचुरी बनाई है।

भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और रोहित शर्मा के साथ शुभ्मन गिल ओपनिंग करने के लिए आए और इन दोनों बल्लेबाजों ने भारत को अच्छी शुरुआत दिलाई। बाद में शुभमन गिल ने पूरी तरह से क्रिकेट को मैच को अपने कंट्रोल में कर लिया और 149 गेंदों में 208 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली जिसमें उन्होंने 19 चौके और 9 छक्के लगाए उन्होंने अपनी डबल सेंचुरी बनाने के लिए तीन लगातार छक्के लगाए।

हर कोई कर रहा शुभमन गिल की तारीफें

अपनी इस शानदार पारी के बाद में शुभमन गिल को पूरी दुनिया से तारीफें मिल रही है और हर कोई दिग्गज खिलाड़ी उनकी इस पारी की तारीफ कर रहा है। इसी मामले में भारतीय कप्तान रोहित शर्मा भी पीछे नहीं है उन्होंने भी अपने इस नए स्टार के लिए काफी बातें कही है और उनकी तारीफों के पुल बांधे हैं आइए हम लोग को उसके बारे में बताते हैं।

रोहित शर्मा कहते है कि "वह (गिल) वास्तव में अच्छा चल रहा है। वह जिस फॉर्म में था, हम उसका फायदा उठाना चाहते थे और इसलिए हमने श्रीलंका सीरीज में उसका साथ दिया। फ्री-फ्लोइंग बैटर और यह देखना काफी रोमांचक है। "

शुभमन गिल ने अपनी पोस्ट मैच कॉन्फ्रेंस में कहा कि “मैं बेसब्री से इंतजार कर रहा था कि मैं बाहर जाऊं और वह करूं जो मैं करना चाहता हूं। विकेट गिरने के साथ, कई बार मैं खुल कर खेलना चाहता था और मुझे खुशी है कि मैं अंत में ऐसा कर सका। कभी-कभी जब गेंदबाज शीर्ष पर होता है तो आपको उन्हें दबाव महसूस कराने की जरूरत होती है। डॉट गेंदों से बचने की जरूरत है, कुछ इरादा दिखाने और अंतराल में जोर से मारने की जरूरत है। मैं यही कर रहा था।”