TOP 5/10

18 से कम उम्र में डेब्यू करने वाले 5 भारतीय खिलाड़ी

क्रिकेट में आमतौर पर खिलाड़ी पहले जूनियर लेवल में प्रदर्शन करते हैं, जिसके बाद उन्हें प्रथम श्रेणी क्रिकेट में मौका मिलता हैं. जिसके बाद खिलाड़ी उन्हें अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू का मौका मिलता हैं हालाँकि कुछ ऐसे क्रिकेटर भी रहे हैं, जिन्होंने जूनियर स्तर पर क्रिकेट खेलने की उम्र में अन्तराष्ट्रीय डेब्यू किया हैं.

आज इस लेख में हम 5 ऐसे इंडियन खिलाड़ियों के बारे में जानेगे, जिन्होंने 18 से कम उम्र में डेब्यू किया हैं.

1) सचिन तेंदुलकर


सचिन तेंदुलकर ने 16 वर्ष की उम्र में पहला वनडे मैच खेला था. उनका पहला अन्तराष्ट्रीय वनडे 1989 में पाकिस्तान के विरुद्ध गुजरांवाला में खेला गया था.

सचिन ने अपने डेब्यू मैच के बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और 23 वर्षो तक लगातार शानदार प्रदर्शन किया और अपने वनडे करियर के अंतिम दौर में वर्ल्ड कप जीता.

2) मनिंदर सिंह


मनिंदर सिंह ने 1983 में सिर्फ 17 वर्ष की उम्र में पाकिस्तान के विरुद्ध डेब्यू किया था. सिंह अपने दौर के सफल क्लासिकल बाएं हाथ के स्पिनर रहे हैं, जिन्होंने अपनी जादुई गेंदबाजी से बड़े-बड़े बल्लेबाजों को परेशान किया था.

मनिंदर सिंह ने भारत के लिए 35 टेस्ट और 59 वनडे खेले, जिस दौरान उन्होंने क्रमश: 88 और 66 बल्लेबाजों का शिकार किया.

3) हरभजन सिंह


दिग्गज ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने 1998 में न्यूजीलैंड के विरुद्ध सिर्फ 17 साल की उम्र में वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया था. जिसके बाद उन्होंने कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा और वनडे और टेस्ट क्रिकेट में अपने प्रदर्शन से खूब लोकप्रियता हासिल की.

भज्जी ने भारत के लिए 103 टेस्ट, 236 वनडे और 28 अन्तराष्ट्रीय टी20 खेले हैं, जिस दौरान उन्होंने क्रमश: 417, 269 और 25 विकेट हासिल की हैं.

4) पार्थिव पटेल


पार्थिव पटेल ने न्यूजीलैंड के खिलाफ 2003 में वनडे क्रिकेट में भारत के लिए पदार्पण किया. उन्हें टीम में एक बैक-अप विकेटकीपर के रूप में चुना गया क्योंकि उस समय टीम में राहुल द्रविड़ मौजूद थे जोकि उस समय सफेद गेंद क्रिकेट में भारत के फर्स्ट चॉइस विकेटकीपर थे.

हालाँकि, द्रविड़ ने 2004-05 सत्र में विकेट कीपिंग ग्लव्स छोड़ दिए थे. पार्थिव भारतीय एकदिवसीय टीम के नियमित सदस्य नहीं बन सके क्योंकि एमएस धोनी ने द्रविड़ के ग्लव्स संभाल लिए थे.

5) चेतन शर्मा


चेतन शर्मा ने 1983 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ 17 साल की उम्र में भारत के लिए अपना वनडे खेला था. चेतन एक स्विंग गेंदबाज थे, जो नई गेंद के साथ दाएं हाथ से अद्भुत गेंदबाजी किया करते थे.

चेतन क्रिकेट के इतिहास में 50 ओवर के विश्व कप में हैट्रिक दर्ज करने वाले पहले गेंदबाज भी हैं. दाहिने हाथ के तेज गेंदबाज ने 1987 विश्व कप में ये उपलब्धि हासिल की थी.


      

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *