एडिटर चॉइस

फाइनल मैच खेलने से रोकने के लिए इस इंडियन क्रिकेटर का हुआ था अपहरण, अब NZ में खेलेगा टेस्ट सीरीज

भारतीय टीम के स्टार स्पिनर रविचंद्रन अश्विन अपने दौरे के महान स्पिनरों में से एक हैं. उनकी विरोधी टीम उन्हें अच्छा प्रदर्शन करने से रोकने के लिए मैच से पहले कई तरह की अलग-अलग रणनीति बनाती हैं. इसी को लेकर अश्विन ने हाल में एक ऐसा खुलासा किया, जिसके जानकर क्रिकेट फैन्स सहित सभी बेहद हैरान हैं. दरअसल, युवास्था में टेनिस बॉल क्रिकेट के दिनों में बस से उनका अपहरण कर लिया गया था. अपहरण करने वालों ने उनकी उंगलियां काटने की तक की धमकी दी थी.

Image result for ashwin press conference


अश्विन ने हाल में मीडिया को दिए एक इंटरव्यू सभी को चौंकाते हुए एक खुलासा किया कि किशोरावस्था में टेनिस बॉल प्रतियोगिता खेलने जाने के दौरान उनका एक टीम के लोगों ने अपहरण कर लिया जिससे वह मैच नहीं खेल पाए थे. इस दौरान अपहरणकर्ताओं ने फिरकी गेंदबाज की उंगलियां काटने की धमकी भी दी थी. तमिलनाडु के दिग्गज ने बताया कि जब वह 14-15 वर्ष के थे तब उन्हें दोस्तों के साथ टेनिस-बॉल प्रतियोगिता खेलने की आदत थी. हालाँकि अश्विन के पिताजी को यह बिल्कुल पसंद नहीं था. अश्विन ने आगे बताया कि एक फाइनल मैच खेलने जाने के दौरान उन्हें 4-5 लड़कों ने खेलने से रोका था.

Image result for ravi ashwin in 2005

दिग्गज ऑफ स्पिनर ने कहा कि उन लोगों ने जबरदस्ती रॉयल एनफील्ड बाइक पर बैठा लिया और उनके कहा कि वो उन्हें लेने आए हैं, जिसके बाद ग्राउंड के समीप चाय की एक दुकान में बैठकर बोले, “डरो मत हम तुम्हारी सहायता करने के लिए यहां हैं.”

अंत में अश्विन ने बताया, “करीब 3:30 या 4 बजे, मैंने कहा कि मैच शुरू होने वाला है.”

तब उन्होंने खुलासा कि वो अश्विन को फाइनल मैच खेलने से रोकना चाहते हैं. इस दौरान लेकिन अच्छी बात ये रही कि उन लोगों ने अश्विन के साथ बुरा व्यवहार नहीं किया.

अश्विन का टेस्ट करियर

33 वर्षीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन इन दिनों दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेलने के लिए न्यूजीलैंड दौरे पर हैं. अश्विन ने अब तक अपने टेस्ट करियर के दौरान 70 मैचों की 131 पारियों में 25.36 की गेंदबाजी औसत से 362 विकेट लिए हैं, इसके आलावा गेंदबाजी में अश्विन ने 96 पारियों में 28.73 की औसत और 4 शतक और 11 अर्द्धशतकों की मदद से 2385 रन बनायें हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *