इंग्लैंड के विरुद्ध खेली जा रही पांच टेस्ट मैचो की सीरीज में शुरूआती दो टेस्ट मैच हारने के बाद मेहमान टीम ने ट्रेंट ब्रिज में शानदार 203 रनों की जीत दर्ज की. जिसके बाक भारतीय चयन समिति ने आखिरी दो टेस्ट मैचो के लिए टीम इंडिया का ऐलान किया. इस दौरान चयन समिति ने सलामी बल्लेबाज़ मुरली विजय और कुलदीप यादव को टीम से बाहर करके युवा बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ और हनुमा विहारी को पहली बार टीम इंडिया ने चुना हैं.

मुरली विजय के स्थान पर टीम में चुने जाने वाले पृथ्वी शॉ ने चयन के बाद एक हैरान करने वाले बयान दिया हैं. दरअसल शॉ का कहना है कि उन्हें खुद उम्मीद नहीं थी कि उन्हें इतनी जल्दी टीम इंडिया में चुना जायेगा. पृथ्वी शॉ ने अभी तक प्रथम श्रेणी करियर के दौरान 14 मैचो की 26 पारियों में 56.72 की शानदार औसत से 1418 रन बनायें है. इस दौरान उन्होंने 7 शतक और 5 अर्धशतक भी लगायें हैं. इसके आलावा शॉ ने इंडियन प्रीमियर लीग(आईपीएल) में भी दिल्ली डेयरडेविल्स की ओर से खेलते हुए बेहद शानदार प्रदर्शन किया था.

No caption needed👍#Throwback New Zealand 🇳🇿

A post shared by Prithvishaw (@prithvishaw) on

भारत को अंडर19 वर्ल्डकप जिताने वाले युवा बल्लेबाज़ पृथ्वी शॉ ने मिड-डे से बातचीत के दौरान कहा, मैं इतनी जल्दी टेस्ट कॉल-अप की उम्मीद नहीं कर रहा था. मैंने इंग्लैंड के खिलाफ भारत के पहले तीन टेस्ट मैचों को फॉलो किया है और यदि मुझे प्लेइंग XI  में मौका दिया गया है, तो मैं टीम की जीत में योगदान करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करूंगा.”

पृथ्वी शॉ ने टीम में चयन का श्रेय अपने पिता को देते हुए  कहा, मैं इसका श्रेय अपने पिता को देना चाहता हूँ. उन्होंने मेरे लिए बहुत कुछ किया है. मैं अपने कोच को भी चयन के लिए धन्यवाद देना चाहता हूँ , जिन्होंने मेरी काफी मदद की.