विराट कोहली को यूं ही खतरनाक बल्लेबाज नहीं कहा जाता है। जब भी किक्रेट की दुनिया में अक्रामक बल्लेबाजों की बात आती हैं। तो इनमे सबसे ऊपर विराट कोहली का नाम होता है। विराट अपनी अक्रामक और धुआंधार पारी खेलने के जाने जाते हैं।

Family visiting in style! ????????

A post shared by Virat Kohli (@virat.kohli) on

विराट कोहली की अगुवाई मे भारतीय टीम ने शानदार प्रदर्शन किया है और यह टेस्ट मे नंबर वन है।वही वनडे क्रिकेट मे भारतीय टीम नंबर 2 पर है तो वही टी-20 क्रिकेट मे तीसरे पायेदान पर मौजूद है।

विराट कोहली ने भारतीय टीम के लिए अपना पहला मैच 2008 मे श्रीलंका के खिलाफ खेला था।इसके मुताबिक इन्होने अब तक 10 साल का सफर तय कर लिया है ।इस 10 साल के सफर मे इन्होने वनडे क्रिकेट मे 35 शतक जड़ें है ।तो वही टेस्ट क्रिकेट मे 21 शतक जड़ें है।कुल मिलाकर यह अब तक 56 शतक अपने नाम कर चुके है।

विराट कोहली ने तीनो फोर्मेट मे अपने बल्ले से जमकर रन बरसाए है।कोहली ने 66 टेस्ट मैच खेलते हुए 53.40 की औसत से 5554 रन बनाए है। वही 208 वनडे मैचों में 58.10 की शानदार औसत से 9588 रन बना चुके है।

विराट कोहली ने टी-20 अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में कुल 57 मैच खेले है। जिसमे इन्होंने 50.84 की औसत से 1983 रन बनाये है।

आप सब की जानकारी के लिए बता दे कि कोहली की सफलता के पीछे रॉबिन उथप्पा की असफलता का बहुत बड़ा हाथ है।विराट कोहली से पहले टीम मैनेजमेंट रॉबिन उथप्पा पर काफी मेहरबान हुई थी और इन्हे टीम मे जगह पक्की करने के लिए बार बार मौके दिए जा रहे थे।लेकिन रॉबिन उथप्पा इन मौको का फायदा नही उठा पाए और बार बार फ्लॉप होते रहे।

रॉबिन उथप्पा की नाकामयाबी की वजह से भारतीय टीम मैंनेजमेंट ने विराट कोहली को मौका दिया और कोहली ने 18 अगस्त 2008 को श्रीलंका के खिलाफ अपने पहले ही मैच में शानदार अर्धशतक लगाया था।

इसके बाद भारतीय टीम मैंनेजमेंट ने कोहली की प्रतिभा को समझा और इन्हे भरपूर मौके दिए।इन मौको का कोहली ने भरपूर फायदा उठाया और आज इस मुकाम पर खड़े है।