धोनी ने किया ख़ुलासा आखिरी गेंद पर ड्वेन ब्रावो को दी थी ‘यह ख़ास’ सलाह

एमएस धोनी क्रिकेट इतिहास में सबसे महान कप्तानों में से एक है। पिछले कुछ सालों में, इन्होने बहुत खूबसूरत, उत्तम दर्जे का और प्रभावी ढंग से टीम इंडिया और चेन्नई सुपर किंग्स (आईपीएल में) का नेतृत्व किया है।

Image Source: Times Of India

धोनी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बहुत ही धमाकेदार बल्लेबाजो के रूप में जाने जाते है। जो स्यं से भी खेलने की क्षमता रखता है। एक समय था, जब भारत विकेटकीपर-बल्लेबाज की तलाश मे था और धोनी ने टीम मे शामिल होकर इस का हल निकाला था।

धोनी भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों के बीच एक महान व्यक्ति के रुप मे बन गए है। जब यह 2007 में आईसीसी विश्व कप टी -20 में युवा भारतीय टीम के कप्तान बने थे,तब इनके करियर में सबसे बड़ा मोड़ आया था । इन्होंने भारत को अंग्रेजो कि मिट्टी पर पहले टी -20 विश्व कप में शानदार जीत हासिल की थी।

Image Source: Twitter

चेन्नई सुपर किंग्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच हाल ही में हुए मैच में, धोनी ने कुछ असामान्य सा किया। जब इन्होंने डीजे ब्रावो से आखिरी गेंद से दो मिनट पहले बातचीत की, जब सनराइजर्स हैदराबाद को आखिरी गेंद में जीतने के लिए 6 रन की जरूरत थी। आम तौर पर, धोनी मैच के दौरान अपने गेंदबाजों को बहुत ज्यादा सलाह नहीं देते हैं और इसीलिए संजय मांजरेकर ने उन्हें मैच के बाद प्रेजेंटेशन सेरेमनी में इसके बारे में पूछा।

संजय मांजरेकर ने धोनी से पूछा कि आखिरी डिलीवरी से पहले उन्होने ड्वेन ब्रावो को क्या कहा? ”  

धोनी ने जवाब देते हुए कहा कि यह भाइयों के बीच की बात है।

धोनी और ब्रावो मैदान पर और बाहर अच्छे दोस्त हैं लेकिन ब्रावो के लिए “भाई” का उपयोग करके सबको अच्छा लगा।

इसके बाद संजय मांजरेकर ने फिर से पूछा कि “लेकिन, आम तौर पर, हम आपको अपने गेंदबाजों के साथ बीच में ज्यादा बात करते नहीं देखते”?

Image Source: Sportzwiki

इस प्रश्न के बाद धोनी से झट से जवाब देते हुए कहा कि “खैर, कभी-कभी सबसे अच्छे खिलाड़ी को भी थोड़ी सलाह की जरुरत होती है”।