सुरेश रैना की चोट और टीम में वापसी को लेकर कोच फ्लेमिंग ने दिया बड़ा ब्यान

चेन्नई सुपर किंग्स के मुख्य कोच स्टीफन फ्लेमिंग ने शनिवार को कहा कि टीम के घायल खिलाड़ी सुरेश रैना के घाटे को कम करने का रास्ता तलाशना होगा।

आईपीएल के शुरुआती मुकाबले में मुंबई इंडियंस को हराकर चेन्नई सुपर किंग्स ने आईपीएल 11 में धमाकेदार शुरुआत की थी। सीएसके की अगुआई कर रहे एमएस धोनी ने कोलकाता नाइट राइडर्स को हराकर एक और रोमांचक छलांग लगाई। हालांकि रैना को खोने से टीम को एक बहुत बड़ा नुकसान हुआ है।

हालांकि किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ हुए मैच मे भी सुरेश रैना मौजूद नही थे।इसका खामियाजा भी चेन्नई सुपर किंग्स को हार का स्वाद चखना पड़ा।

प्रमुख कोच स्टीफन फ्लेमिंग ने कहा है कि रैना निश्चित रूप से इस खेल को याद करेंगे, आशीर्वाद यह है कि हमारे पास ओर चार दिन रह गए हैं और हमे देखने को मिल सकता है कि वह अगले मैच के लिए एकदम फिट हो।

हम रैना को टीम से बाहर किसी भी हालत मे नहीं कर सकते। वह आईपीएल के सर्वोच्च रन स्कोरर है और सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शनकारों में से एक है इसलिए हम इन्हे ड्रॉप करने का सोच भी नही सकते। लेकिन हमें इनके विकल्प के बारे मे सोचना होगा।

हमारे स्क्वॉडट में ध्रुव शोरै, मुरली विजय, जैसे कई अच्छे खिलाड़ी हैं ।इन खिलाड़ियों के पास एक मौका है कि ये अंतराष्ट्रीय खिलाड़ियों के साथ रहकर अपने आप को साबित करे।अगर इन्हे मौका मिलता है तो यह जरुर सुरेश रैना जैसा खेल सकते है।

फ्लेमिंग ने यह भी कहा कि एक और खिलाड़ी लूंगी एनगीडी परिवार की परेशानी के कारण दक्षिण अफ्रीका वापस लौट गए थे ।हम इन्हे भी बहुत याद कर रहे है ।तेज गेंदबाज के रुप मे यह एक अच्छे विकल्प थे।

इन्होंने कहा कि रैना की अनुपस्थिति में बल्लेबाजी क्रम में बदलाव होने की संभावना है, लेकिन एक बार वह फिर से फिट होने के बाद इन पर दोबारा गौर किया जा सकता है।

जाहिर है, बहुत कुछ चल रहा है। मुझे लगता है कि सकारात्मक बात यह है कि हमने दो में से दो जीत हासिल की है। बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं हुआ है, लेकिन .. जीत, जो कभी-कभी टूर्नामेंट की शुरुआत में अधिक मूल्यवान होती है। फिर भी चेन्नई छोड़ने के लिए निराश है, हम एक टीम चुनने के लिए अपनी नीलामी निर्धारित करी जो चेन्नई में स्थितियों पर आधारित थी।

पुणे में खेलने के बारे में उन्होंने कहा, “क्या पुणे की पिच एक जैसी है, यह 12 महीने पहले थी, हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि हम वहां कब आएंगे। हम उस जमीन की कुछ विशेषताओं को जानते हैं, जो फिर से सकारात्मक है क्या यह चेपाक को बदलता है, नहीं, यह नहीं है लेकिन हम अपने खिलाड़ियों को जितनी जल्दी हो सके उन स्थितियों (पुणे में) मे ढालने की कोशिश करेगे।