दिल्ली डेयरडेविल्स फैंस के लिए आई बहुत बुरी खबर.

कावेरी जल विवाद को लेकर चेन्नई सुपर किंग्स के सभी मैच इनके होम ग्राउंड से शिफ्ट करके पुणे मे शिफ्ट कर दिए गए है।अब कुछ ऐसी ही स्थिति दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए भी बनती जा रही है।हालांकि दिल्ली में किसी धरना की अपेक्षा नही है और इसकी वजह कुछ ओर ही है।

बात यह है कीं टीवी ब्रॉडकास्ट के लिए एक कैमरे का एंगल मुसीबत बनता नजर आ रहा है।दरअसल दिल्ली के फिरोज़शाह कोटला मैदान की एक तरफ मकबरा है।ये पुरातत्‍व विभाग की संरक्षित साइट में से एक है।नियम की बात करे तो इसके मुताबिक पुरातत्व विभाग की किसी भी संरक्षित साइट के 100 मीटर के दायरे में कोई निर्माण नही किया जा सकता।

लेकिन फिर भी स्टेडियम के एक हिस्से पर ऐसा किया जा रहा है और इस बात को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट मे केस भी चल रहा है।अब दिल्ली फिरोज़शाह कोटला मैदान के लिए यह समस्या है कि पुराने क्लब हाऊस की तरह कैमरा लगाने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट अनुमति नही दे रहा है।

आप सब की जानकारी के लिए बता दे कि यहा लगा कैमरा गेंदबाजो के बॉलिंग आर्म को फॉलो करता है।ऐसे मे अगर यह अनुमति नही मिलि तो यकीनन सभी क्रिकेट प्रशंसक एक महत्तवपूर्ण कवरेज को मिस करेगे।

न्यूज 18 इंडिया के मुताबिक इस मामले में आईपीएल मैंनेजमेंट, दिल्ली डेयरडेविल्स मैंनेजमेंट और दिल्ली क्रिकेट एसोसिएशन की हाल ही मे बैठक हुई थी।इसमे सभी ने बॉलिंग आर्म कैमरे के लिए चिंता व्य्क्त की है और कहा है कि बिना इस एंगल के मैच आयोजित नही किया जा सकता ।इस बात के लिए सभी सहमत थे।

अब माना जा रहा है कि दिल्ली डेयरडेविल्स के अन्य मैच दूसरे शहरो मे शिफ्ट किए जा सकते है ।अगर ऐसा होता है तो कानपुर , राजकोट, रायपुर और इंदौर को दिल्ली का होम ग्राउंड चुना जा सकता है।