किक्रेट प्रेमियों के लिए बुरी खबर, ऑस्ट्रेलिया के इस महान खिलाड़ी ने की संन्यास की घोषणा

0
1958

किक्रेटप्रेमी भले ही हमेशा अपने देश की टीम को सपोर्ट करती है लेकिन खेल के मामले में हर देश के किसी ना किसी खिलाड़ी के फैन होती है। इस वक्त किक्रेटप्रेमियों के लिए एक बुरी खबर है क्योंकि आस्ट्रेलिया के दिग्गज बल्लेबाज ब्रैड हॉज ने किक्रेट को पूरी तरह अलविदा कह दिया है।

ब्रैड हॉज पिछले काफी समय से अलग – अलग लीग के लिए टी 20 खेल रहे थे लेकिन अब उन्होंने हर फार्मेंट के किक्रेट को अलविदा कह दिया है। उन्होंने अंतिम बार मार्च 2014 में ऑस्ट्रेलिया की जर्सी में भारत के खिलाफ मैच खेला था।

वह इस बार की बिग बैश लीग में मेलबर्न रेनगेड्स की टीम से खेल रहे थे, लेकिन टूर्नामेंट के बीच में वह बीमार पड़ गये थे जिसके कारण वह बाकी मैच भी नहीं खेल पाएं और अब उन्होंने क्रिकेट से पूरी तरह से संन्यास लेने का फैसला कर लिया है।

गौरतलब है कि 43 वर्षीय ब्रैड हॉज ने अपने सभी फॉर्मेट की क्रिकेट मिलाकर कुल 33000 भी ज्यादा रन बनाये है। अकेले टी20 लीग में खेलते हुए उन्होंने कुल 7496 रन बनाये। ब्रैड हॉज ने ऑस्ट्रेलिया लिए 6 टेस्ट मैच 25 वनडे मैच व 15 टी-20 मैच खेले हैं।

ब्रैड हॉज पिछले कुछ समय से अपनी बीमारी से लड़ रहे हैं। ब्रैड हॉज को अपेंडिक्स के कारण कैनबरा अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन सर्जरी के बाद उनकी तबियत और बिगड़ गई और अब अपनी तबियत को देखते हुए हॉज ने किक्रेट को अलविदा कह दिया है।

न्यूज कॉर्प से बात करते हुए, हॉज ने अपने संन्यास को लेकर कहा, “अब मेरे क्रिकेट करियर का अंत हो गया है। मैं फाइनल में मेलबर्न क्लब ईस्ट सैंड्रिन्घम का प्रतिनिधित्व करूँगा और यह मेरे क्रिकेट कैरियर का अंतिम मैच होगा।

उन्होंने कहा कि मैं टेक्नोलॉजी की वजह से मैं जिंदा हूं, क्योंकि मुझे डॉक्टर ने बताया, कि अगर मुझे यह बीमारी 30-40 साल पहले हुई होती तो मैं मर भी सकता था.। लेकिन मैं भाग्यशाली था, कि मैने बिना समय गवाएं मेलबर्न में शनिवार को अस्पताल में चला गया.

अगर मैं इसे 24 घंटे और छोड़ दिया होता तो यह बहुत खराब हो सकता था। मेरा क्रिकेट करियर बहुत मजेदार रहा है। मैंने अपने खेल को एंजॉय किया, लेकिन अब मैं आगे की ओर देख रहा हूं. मैं भाग्यशाली रहा इतने लम्बे समय तक क्रिकेट खेला सका हूं, लेकिन यदि आप मैदान पर प्रभावशाली प्रदर्शन ना कर सके तो इसका फायदा नहीं है और बेहतर यह है, कि मैं अब अपना बैग पैक कर लू।”