भारत और साउथ अफ्रीका के बीच टेस्ट श्रंखला मे सिर्फ एक ओर टेस्ट मैच रहा है और अब तक रोहित शर्मा का फ्लॉप शॉ जारी है । ऐसा प्रतीत हो रहा है कि रोहित शर्मा अपने कप्तान का भरोसा लगातार तोड़ रहे है । रोहित शर्मा की मौजूदा हालत देखकर लग रहा है कि वह आउट ऑ़फ फोर्म चल रहे है।

दोनो टेस्ट मैच मे रोहित शर्मा का बल्ला चलने मे पुरी तरह नाकाम रहा है। भारतीय कप्तान विराट कोहली रोहित शर्मा को बार बार मौके दिए जा रहे है और इनको अजिंक्या रहाणे की जगह खिला रहे है । जबकि अजिंक्या रहाणे की विदेश मे औसत लगभग 50 से ऊपर है ।

रोहित शर्मा ने इस श्रंखला की तीन पारियो मे अब तक सिर्फ 31 रन ही बनाए है , जो अपने आप मे ही एक शर्मनाक बात है ।यह पहला मौका नही है जब साउथ अफ्रीका के खिलाफ इनका बल्ला बिल्कुल भी नही चला।

2013 के दौरे पर भी रोहित शर्मा इस बार की तरह फ्लॉप ही रहे थे इन्होने दो टेस्ट मैच खेलते हुए 14,6,0 और 25 रन बनाए थे।इसके साथ साथ 2015 मे जब साउथ अफ्रीका भारत आई थी तब भी रोहित शर्मा ने सबको निराश किया था।अब कप्तान कोहली पर भी सवाल खड़े हो रहे है कि कब तक रोहित शर्मा को मौका दिया जाएग, जबकि आजिंक्य रहाणे अभी भी बैंच पर मौजूद है ।

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंद्बाज शोएब अख्तर जो इस समय स्विटॅज़रलैंड मे टी-20 लीग खेल रहे है, इन्होने पीटीआई से बातचीत करते हुए भारत के साउथ अफ्रीका के दौरे के बारे मे बोला कि पिछले काफी समय से इस बता की चर्चा चल रही है कि रहाणे को टीम में शामिल करना चाहिए और मुझे भी ऐसा ही लगता है लेकीन हम सभी इस बात को जानते है कि रोहित शर्मा कितने प्रतिभाशाली खिलाड़ी है लेकिन आप जिस वक्त में रह रहे है उसमे आपको हर वक्त प्रदर्शन करना होगा लेकिन मैं रोहित में इंजमाम उल हक की झलक देखता हूँ|

ये कहना गलत होगा कि भारतीय टीम इस टेस्ट मैच हारी है क्योंकी दोनों ही टेस्ट मैच में टीम लड़ी है और वे अभी भी टेस्ट की सबसे अच्छी टीम हैहाँ भारतीय टीम के बल्लेबाजों ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया जैसा उनसे उम्मीद थी|

हार्दिक पंड्या के बारे मे बताते हुए शोएब अख्तर ने कहा कि मुझे हार्दिक ने काफी प्रभावित किया है क्योंकी वे ऐसे बल्लेबाज है जो हालात के अनुसार नहीं खेलते है और उन्हें पिच से कोई भी फर्क नहीं पड़ता है भारतीय टीम को दक्षिण अफ्रीका में मिली हार का लाभ आगे आने वाले इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर मिलेगा भले ही दोनों टीम अपने घर पर बेहतर हो सकती है लेकिन आप भारत को कभी भी हल्के में नहीं ले सकते है