बड़ा खुलासा: इस शर्मनाक वजह से कोहली ने कुंबले पर इंजाम लगा किया था टीम से बाहर.

0
1497

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच खेले गए दूसरे टेस्ट मैच मे भी भारत के हाथो असफलता ही मिली। एक बार फिर भारत की खराब बल्लेबाजी की वजह से भारत को हार का सामना करना पड़ा है ।साल 2018 की शुरुआत भारत के लिए बेहद खराब हुई है, भारतीय बल्लेबाजो ने एक बार फिर बता दिया कि यह विदेशी पिच पर नही खेल सकते। साउथ अफ्रीका को टेस्ट मैच मे हराने का सपना सपना ही रह गया ।

हम सब जानते है कि भारतीय पूर्व गेंदबाज अनिल कुंबले को कुछ महीने पहले ही कोच के पद से हटा दिया गया था।इसकी वजह किसी को नही पता था और अब सबके सामने इस बात का खुलासा हो गया है कि आखिरकार क्यों कुंबले को अपने इस पद से हाथ धोना पड़ा था।

अनिल कुंबले की बात करे तो यह भरत के सबसे सफल स्पिनर मे से एक है। अनिल कुंबले ने भारतीय टीम के लिए कुल मिलाकर 132 टेस्ट मैच खेले है ।इन 132 टेस्ट मैचो मे इन्होने 619 विकेट लिए थे और इसके बाद इन्होने ऑक्टूबर 2008 मे क्रिकेट से सन्यास ले लिया था।

इसके बाद इन्हे भारतीय टीम का प्रमुख कोच बनाया गया था और इनकी कोचिंग मे भारतीय टीम ने अच्छा क्रिकेट खेला था।लेकिन इन्हे जल्द ही कोच पद से हटा दिया गया था। हाल ही मे कुछ खबरो के अनुसार पता चला है कि इन कारणो की वजह से कुंबले को कोच पद से हटा दिया गया था :-

  • खिलाड़ियों को अपनी वाइफ को साथ ना ले जाने की इजाजत

आप सब की जानकारी के लिए बता दे कि कुंबले के कोच पद पर आते ही इन्होने क्रिकेट को सब कुछ समर्पित कर दिया था।इस दौरान इन्होने भारतीय टीम के खिलाड़ियों को अपनी पत्नियों के साथ न रखने की सलाह दी थी ।शायद इसी कारण भारतीय टीम के अधिकतम खिलाड़ी परेशान हुए होगे और उन्होने इनके खिलाफ शिकायत कर हटाने की माँग की होगी ।

  • लेट नाइट पार्टी

यह भी सुनने को मिल रहा है कि अनिल कुंबले भारतीय टीम को लेट नाइट पार्टी करने से भी रोकते थे।इस निर्णय से भी भारतीय टीम के खिलाड़ी निराश थे , और शायद इसी वजह से इन्हे कोच पद से हटाने की माँग की होगी।

  • विदेश मे ज्यादा क्रिकेट

सुनने मे आ रहा है कि कुंबले ने विदेश मे ज्यादा क्रिकेट खेलने की योजना बनाई थी। परंतु उनके इस कार्यकाल मे ऐसा कुछ नही हुआ और फिर इनके बाद रवि शास्त्री को कोच पद के लिए नियुक्त किया गया।

  • मौज मस्ती पर भी लगाई रोक

भारतीय टीम के सभी खिलाड़ियों के लिए मौज मस्ती से मना किया गया था अर्थात कही घूमने फिरने की इज्जाजत नही थी इन्हे।