साल 2018 मे भारतीय टीम का आगाज शरमनाक प्रदर्शन के साथ हुआ है , इसी शर्मनाक प्रदर्शन के चलते भारतीय टीम की केपटाउन मे खेले गए पहले मैच मे हार हुई है । भारतीय टीम का मजबूत पक्ष बल्लेबाजी है और बल्लेबाजी मे ही भारतीय टीम के हाथ निराशा लगी । भारत का कोई भी बल्लेबाज अपने आप को साउथ अफ्रीका की ज़मीन पर बेहतर दर्शा नही पाया ।

साउथ अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने पहले टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया , हालाँकि साउथ अफ्रीका की शुरुआत अच्छी नही रही , परंतु बाद मे इनकी पारी को कप्तान डुप्लेसिस ने खुद और डिविलियर्स ने सम्भाला । इसके बाद भारतीय गेंदबाजो ने अच्छा प्रदर्शन करते हुए साउथ अफ्रीका को 285 रन पर ही समेट दिया था।

जवाब मे भारतीय बल्लेबाज जब बल्लेबाजी करने उतरे तो माना जा रहा था कि भारतीय खेमा साउथ अफ्रीका को बहुत बड़ी लीड देगा । परंतु 100 रन के नीचे ही भारत के 7 बल्लेबाज आउट हो चुके थे , जिसके बाद हार्दिक पंड्या ने संकट मोचन का काम करते हुए शानदार 93 रन बनाए । हालांकि यह भारत को उस मुकाम तक नही पहुँचा सके पर पहली पारी मे भारत 77 रन पीछे था साउथ अफ्रीका से ।

दूसरी पारी मे साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजो ने खास प्रदर्शन नही किया , या हम बोल सकते है कि भारतीय गेंदबाजो ने लाजवाब प्रदर्शन किया जिसकी बदौलत भारतीय टीम ने साउथ अफ्रीका को 130 रन के कुल स्कोर पर ही ऑल आउट कर दिया था।इसके बाद भारत को जीत के लिए 208 रन बनाने थे और यह लक्ष्य बहुत आसान भी लग रहा था।

परंतु इस लक्ष्य को साउथ अफ्रीका के गेंदबाजो ने भारत के लिए बहुत मुश्किल कर दिया जिसकी वजह से भारतीय बल्लेबाजी एक बार फिर साउथ अफ्रीका के तेज आक्रमण के आगे सिमट गई।भारत की इस शर्मनाक हार के बाद भारतीय प्रशंसको को निराशा मिली । भारत पहला टेस्ट मैच 72 रनो से हार गया है।माना जा रहा था कि भारतीय टीम इस बार साउथ अफ्रीका मे अच्छा प्रदर्शन करेगी परंतु भारतीय टीम तो पुरी तरह से बिखर गई ।

मैच के बाद भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने अपना क्रोध दिखाते हुए कहा कि अगर हम इस टेस्ट मैच के पहले इनिंग में कुछ और रन बना लेते तो हम मिले लक्ष्य को आसानी से चुनौती दे सकते थे। हालांकि इसके बावजूद हमसे कुछ गलतियां हो गयी है। हम ऐसी टीम नहीं है कि जो किसी भी लक्ष्य को कठिन समझे। हमारी जल्दी-जल्दी विकेट गिरना टीम के लिए मुश्किलों का कारण बन गया। हम हमेशा से ही टेस्ट क्रिकेट के लिए काफी शानदार खेल का प्रदर्शन दिखा चुके हैं।

“हमने दूसरी पारी में साउथ अफ्रीका की बल्लेबाजी के दौरान ऐसा सोचा था कि हम इन्हें 250 से 270 रनों तक आउट कर देंगे। पर हमारे द्वारा उन्हें 210 रनों के भीतर आउट करना काबिलेतारीफ रहा,जिसे मै अपने गेंदबाजों को क्रेडिट देना चाहता हूं।

हालांकि अब हमे अपनी गलतियों से सीख लेकर उन्हें आगे करने से बचना होगा।हमने दोनों ही इनिंग में कुछ गलतियां की,जिसमें एक लम्बी साझेदारी की भी दरकार थी।यह गेम हमेशा से ही एक पार्टनरशिप का रहा है। अब हमें उस तरीके से खेल को खेलना होगा,जिस तरीके से अपने होम ग्राउंड पर खेलते हैं।”