तीसरे वनडे मे मैन ऑफ़ द मैच विजेता कुलदीप यादव ने दिया भावुकता से भरा बयान

0
419

पहले मैच मे शर्मनाक हार के बाद दूसरे एकदिवसीय मैच मे भारतीय टीम ने जोरदार वापसी कर सभी को प्रभावित कर दिया था।दूसरे मैच मे रोहित शर्मा के दोहरे शतक ने सारे विश्व मे धमाल मचा दी थी । दूसरे मैच जीतने के बाद भारतीय टीम और श्रीलंकन टीम श्रंखला मे बराबरी पर हो गई थी । जिसके बाद दोनो ही टीमों के लिए तीसरा और अंतिम एकदिवसीय मैच बहुत महत्तवपूर्ण था ।

दोनो ही टीमे जीतने के लिए अपना पूर जोर प्रदर्शन करने की कोशिश कर रही थी । तीसरा एकदिवसीय मैच विशाखापटनम मे 17 दिसंबर को खेला जा रहा था। इस मैच मे भारतीय टीम ने पहले टॉस जीतकर गेंदबाजी का फैसला लिया था। हालाँकि अंत मे यह फैसला बहुत ही सही साबित हुआ ।

श्रीलंकन कप्तान थिसारा परेरा को यह पिच बल्लेबाजी से अनुकुल लग रही थी ।एक समय पर तो लग रहा था कि श्रीलंकन टीम जबरदस्त लय मे चल रही है । परंतु भारतीय स्पिनरो ने जबरदस्त गेंदबाजी करवाते हुए भारतीय टीम को विकेट दिलवाई । भारतीय टीम के युवा स्पिनर कुलदीप यादव ने शानदार तरीके से गेंदबाजी करवाते हुए, महत्तवपूर्ण विकेट ली ।

भारतीय टीम को 50 ओवर मे 216 रन का लक्ष्य मिला था , यह लक्ष्य भारतीय टीम ने आसानी से हासिल कर लिया । भारतीय टीम ने 32.1 ओवर मे 219 रन बनाकर श्रीलंका के खिलाफ जीत हासिल कर श्रंखला को अपने नाम कर लिया था।

कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की जोड़ी ने लाजवाब गेंदबाजी करवाते हुए 6 महत्तवपूर्ण विकेट लिए , जिस बदौलत भारतीय टीम ने मैच मे वापसी की ।

अगर यह दोनो विकेट नही लेते तो ऐसा लग रहा था कि श्रीलंका की टीम 300 रन से पार जाएगी । परंतु भारतीय टीम श्रीलंकन बल्लेबाजो को रोकने मे कामयाब रही ।

कुलदीप यादव को मैच के बाद मैंन ऑफ द मैच का अवॉर्ड मिला , जिसके बाद इन्होने कहा कि “श्रीलंका बड़े स्कोर की तरफ बढ़ रहा था. हमें बीच के ओवरों में विकेट चाहिए था. हमने योजना के मुताबिक़ गेंदबाजी की जिसमे हम सफल हुए.”

“जब आप बाहर बैठते हैं, तब आपको अपने ऊपर काम करना चाहिए और जैसे ही मौक़ा मिले आप को कोशिश करनी चाहिए और बेहतरीन प्रदर्शन करना चाहिए, जो कि मैंने किया|”