जैसा कि हम जानते है भारत मे भरपूर टैलेंट है, युवा से लेकर ज्यादा उम्र वाले खिलाड़ियों मे भी कूट कूट कर टैलेंट भरा हुआ है । दिन पर दिन क्रिकेट का खेल बहुत ही रोमांचक होता जा रहा है । जैसे जैसे खेल रोमांचक हो रहा है वैसे वैसे खिलाड़ियों के बीच प्रतियोगिता भी बढ़ती जा रही ही।

क्रिकेट जगत मे हमने कई रिकॉर्ड बनते देखे है और कई रिकॉर्ड टूटते देखे है । आज के दौर मे क्रिकेट सबके लिए एक मनोरंजन बन ग्या हैं | हर देश मे क्रिकेट का ही बोल बाला है । चाहे बच्चा हो या बूढ़ा हर कोई क्रिकेट खेलना और देखना दोनो ही पसंद करता है । क्रिकेट मे हमने कई करिश्माई चीज़े देखी है , जैसे कि सुपर मैंन कैच, इत्यादि।

आखिर क्रिकेट अनिश्चिकताओ का खेल है , इस खेल मे कुछ भी संभव है । नामुमकिन चीज़ भी इस खेल मे हो सकती है । भारतीय पूर्व खिलाड़ियों की बात करे तो , सभी ने भारत के लिए बहुत योगदान दिया है।भारत के लिए खेलते हुए कई मैच जीते है।

ऐसे ही इन दिग्गज खिलाड़ियों के बेटे भि है , वह सभी चाहते है कि उनका बेटा उनसे भी अच्छा खेलकर नाम रोशन करे । हम सब जानते है कि सचिन तेंदुलकर का बेटा अर्जुन तेंदुलकर क्रिकेटर बनना चाहते है ऐसे में वह कड़ा अभ्यास भी कर रहे है ।

सचिन तेंदुलकर के साथ साथ राहुल द्रविड़ का भी बेटा क्रिकेटर बनना चाहता है । जी हा हम उन्ही राहुल द्रविड़ की बात कर रहे है जिन्हे हम द वॉल के नाम से पुकारते थे । राहुल द्रविड़ के बेटे का नाम समित द्रविड़ है , यह बिल्कुल अपने पिता के नक्शे कदम पर चल रहे है ।

12 साल की उम्र मे समित द्रविड़ स्कूल टूर्नामेंट खेल रहे है , जहा पर समित द्रविड़ ने एक शानदार सैकड़ा पूरा किया । समित द्रविड़ के इस शतक मे स्यं के साथ साथ तकनीक भी देखने को मिली । इन्होने अपने आप मे धैर्य का परिचय दिया है ।

समित द्रविड़ की इस शतकीय पारी से लग रहा है कि समित द्रविड़ अपने खेल को ओर उभार कर भारतीय टीम मे आने का प्रयास करेगे । हो सकता है कि यह आने वाला फ्यूचर हो।