भारत ने 2011 का विश्व कप जीता था , जिसमे भारत का फाइनल मुकाबला श्रीलंका से हुआ था , इस मैच मे भारत को एक सम्मानजनक स्कोर का पीछा करना था । स्कोर का पीछा करते हुए भारत के दो प्रमुख शुरुआती बल्लेबाज जल्द ही आउट हो गए थे , जिसके बाद गौतम गंभीर और विराट कोहली ने स्कोर को आगे बढ़ाया ओर साझेदारी की । पर यह साझेदारी ज्यादा लंबी नही रही ओर विराट कोहली ने अपनी विकेट गँवा दी जिसके बाद महेंद्र सिंह धोनी क्रिज़ पर आए और गौतम गंभीर के साथ धोनी ने लंबी साझेदारी की ।

हालाँकि गौतम गंभीर अपना शतक बनाने से चूक गए थे , पर इन्होने अपनी इस महत्तवपूर्ण पारी से भारत को जीत के पास लाकर खड़ा कर दिया था और बाद का काम युवराज सिंह और धोनी ने मिलकर किया और विश्व कप जीत लिया । गौतम गंभीर बेहद प्रभाव्शाली बल्लेबाज है , इनकी सराहना सारा विश्व करता है और इन्होने विरेंद्र सहवाग के साथ कई महत्त्वपूर्ण साझेदारी की है ।

हालाँकि गौतम गंभीर फिलहाल भारतीय टीम से बाहर चल रहे है , पर वह आय दिन चर्चा के पात्र बने रहते है ,उन्होने धोनी पर हो रही आलोचना को गलत बताया है । आगे बढ़ते हुए धोनी ने कहा है कि जब धोनी की तारीफ करनी होती है तब कोई व्यक्ति नजर नही आता , ओर जब कभी धोनी से कुछ चूक हो जाती है तो आलोचको की एक लंबी कतार बन जाती है ।

गौतम गंभीर ने आगे बोला कि धोनी ने भारतीय क्रिकेट को बहुत ही आगे तक पहुँचाया है , इन्होने कई मुकाबले जीतवाए है । जब टीम अच्छा कर रही हो तब कप्तानी करना बेहद आसान है परंतु जब टीम खराब प्रदर्शन कर रही हो उस समय पटरी पर लाना सफल कप्तान की पहचान है और महेंद्र सिंह धोनी ने भी ऐसा ही किया है जिसे भूला नही जा सकता ।

एक लाइव शो के दौरान गौतम गंभीर ने बताया कि धोनी को उनके खराब दौर मे लोगो के समर्थन और सहयोग की बेहद जरूरत है । आगे बढ़ते हुए गंभीर ने कहा कि इन्होने धोनी की कप्तानी मे क्रिकेट को काफी एंजोय किया है और धोनी ने कप्तान बननए के बाद हर परिस्थिति का सामना बखूबी किया है ।

गंभीर ने यह भी कह दिया कि उन्होंने गांगुली , द्रविड़, सहवाग और धोनी की कप्तानी मे बहुत खेला है , लेकिन सबसे ज्यादा मजा धोनी की कप्तानी मे आया है ।