सभी प्रशंसकों का ध्यान भारत और न्यूजीलैंड के बीच चल रही टी-20 श्रंखला मे है , जिसमे भारत मजबूती से बल्लेबाजी और गेंद्बाजी कर रही है , जिसकी बदौलत भारतीय टीम ने पहले टी-20 मैच मे शानदार तरीके से न्यूजीलैंड के चारो खाने पस्त कर दिए । वैसे तो श्रंखला के शुरु होने से ही माना जा रहा था कि न्यूजीलैंड का पलड़ा भारी है , पर भारतीय टीम ने बता दिया कि वह नंबर एक टीम है ।

एकदिवसीय श्रंखला और टी-20 श्रंखला मे भारतीय टीम के कई खिलाड़ियों का चयन नही हुआ था , कुछ खिलाड़ियों को टेस्ट मैचो का स्पेशलिस्ट माना जाता है और इसलिए वह सिर्फ टेस्ट मैच मे ही खेलते है । लेकिन फिर भी यह खिलाड़ी भारतीय टीम के बहुत ही अहम हिस्सा है ।

जहा एक ओर भारत की श्रंखला न्यूजीलैंड के साथ चल रही है , वही दूसरी ओर घरेलू क्रिकेट भी चल रहा है , और इसमे आय दिन नए नए योगदान देखने को मिल रहे है । भारत मे टैलेंट की कमी नही है , ऐसे मे भारत के कई घरेलू खिलाड़ी घरेलू क्रिकेट मे अपना अच्छा प्रदर्शन करते है ताकि चयनकर्ताओ की नजर उन पर पड़े ।

पर आज हम बात करेगे ऐसे खिलाड़ी की जिन्होने टेस्ट मैचो मे राहुल द्रविड़ की कमी खलने नही दी , इनका नाम चेतेशवर पुजारा है , यह भारत के अव्वल बल्लेबाजो मे से एक है और इस बात का अमे प्रमाण देने की जरुरत नही है । पुजारा ने गुरुवार को एक रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है , इन्होने गुरुवार को दोहरा शतक लगाया ।

इस दोहरे शतक लगाने के साथ इन्होने भारत के घरेलू क्रिकेट मे सर्वाधिक बार दोहरे शतक बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है , यह पारी इन्होने झारखंड के खिलाफ खेली , इनकी पारी की बदौलत इनकी टीम सौराष्ट्र 553 रन बना सकी जिसके बाद सौराष्ट्र ने अपनी पारी घोषित कर दी ।

पुजारा ने इस मैच मे 204 रन बनाए थे ओर यह इनके घरेलू क्रिकेट का 12 वा दोहरा शतक है , इन्होने भारत की ओर से सबसे ज्यादा 11 दोहरे शतक लगाने वाले विजय मर्चेंट का 70 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ा है और अभी एशिया मे पुजारा संगाकारा से सिर्फ एक कदम दूर है , संगाकारा के नाम 13 दोहरे शतक है । जैसे ही यह एक ओर दोहरा शतक जड़ देगे , वैसे ही यह संगाकारा को पछाड़ देगे ।