क्रिकेट के खेल में बाएं हाथ और दायें के खिलाड़ी होते हैं, हालाँकि टीम में अधिकांश खिलाड़ी दायें हाथ के ही देखने को मिलते हैं. क्रिकेट में ज्यादातर मौके पर दायें हाथ के खिलाड़ियों का ही बोलबाला रहा हैं. हालाँकि इस दौरान कुछ बाएं के खिलाड़ियों के टीम के सौंदर्य को चार चाँद लगायें हैं.

वसीम अकरम, सौरव गांगुली और ब्रायन लारा कुछ ऐसे बाएं हाथ के खिलाड़ी है, जिन्होंने लम्बे समय तक क्रिकेट पर अपना दबदबा कायम रखा हैं. इस लेख में हम बाएं हाथ के भारतीय खिलाड़ियों की सबसे बेहतरीन टीम के बारे में जानेगे:-

10) विनोद कांबली
Image result for vinod kambli
विनोद कांबली भारत के सबसे प्रतिभाशाली खिलाड़ियों में से एक रहे हैं, हालाँकि उसके ख़राब बर्ताव के कारण उन्हें भारत के लिए ज्यादा क्रिकेट खेलने का मौका नहीं मिला सका.

विनोद कांबली ने अपने छोटे टेस्ट करियर के दौरान 17 टेस्ट मैचो की 21 पारियों में 54.2 की शानदार औसत से 1084 रन बनायें. इस दौरान कांबली ने 227 सर्वोच्च सहित कुल 4 शतक और 3 अर्धशतक भी लगायें.

9) सलीम दुरानी
Image result for salim durani
भारत के सबसे बड़े मैच विनर में शामिल रहे सलीम दुरानी ने वर्ष 1961/62 में इंग्लैंड के विरुद्ध घरलू सीरीज और वर्ष 1971 में वेस्टइंडीज के विरुद्ध ऐतिहासिक जीत के दौरान अहम भूमिका निभाई.

दुरानी एक बाएं हाथ के स्पिनर थे, हालाँकि उनकी आक्रामक बल्लेबाज़ी भी टीम के लिए हमेशा महत्वपूर्ण रहती थी. सलीम दुरानी ने अपने करियर के दौरान 29 टेस्ट मैचो में 35.42 की औसत से 75 विकेट हासिल किये, इसके आलावा दुरानी ने   25.04 की औसत से 1202 रन भी बनायें.

8) रोबिन सिंह
Image result for robin singh
एक शानदार फील्डर और प्रभावशाली मध्यगति के गेंदबाज़ रोबिन सिंह अपने आक्रामक बल्लेबाज़ी के लिए जाने गए. मध्यक्रम में बल्लेबाज़ी करने वाले रोबिन सिंह अंतिम में तेजी से रन बनाकार टीम के लिए अहम योगदान करते थे.

रोबिन ने भारत के लिए वनडे और टेस्ट क्रिकेट दोनों खेले, हालाँकि उन्हें अपने करियर के दौरान वनडे क्रिकेट में प्रसिद्धी हासिल हुई. रोबिन सिंह ने अपने करियर के दौरान 136 वनडे मैचो में 25.95 की औसत से 2336 रन बनाये, जिस दौरान सिंह ने एक शतक और 9 अर्धशतक भी लगायें.

रोबिन सिंह ने वनडे क्रिकेट में 69 विकेट भी रहे किया, जिस दौरान 5/22 उनका सर्वोच्च गेंदबाज़ी प्रदर्शन रहा.

7) सुरेश रैना
Image result for RAINA
घरेलु स्तर में शानदार प्रदर्शन करने के बाद सुरेश रैना ने महज 19 वर्ष उम्र में अंडर-19 क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करके भारतीय टीम के लिए डेब्यू किया. बाएं हाथ के रैना दुनिया के सबसे योग्य बल्लेबाजों में से एक है, जिसने पॉवर-हिटिंग के लिए जाना जाता हैं.

शॉट गेंदों को अच्छा न खेल पाने के कारण सुरेश रैना भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट ज्यादा नहीं खेल पायें, हालाँकि वनडे क्रिकेट में रैना भारत के सबसे सफ़ल वनडे बल्लेबाजों में से एक हैं.

वर्ष 2005 में डेब्यू करने वाले सुरेश रैना ने अब तक भारत के लिए 223 वनडे मैचो की 192 पारियों में 35.46 की औसत से 5568 रन बनायें है, जिस दौरान उन्होंने 5 शतक और 36 अर्धशतक भी लगायें हैं.

6) शिखर धवन
Image result for DHAWAN
शिखर धवन ने अपने डेब्यू मैच के बाद से तीन आईसीसी टूर्नामेंट के दौरान (2 आईसीसी चैंपियन ट्राफी, एक विश्वकप) भारत के लिए सबसे अधिक रन बनायें है, जोकि उन्हें इस सूची में शामिल करने के लिए काफी हैं.

31 वर्षीय सलामी बल्लेबाज़ शिखर धवन ने अब तक भारत के लिए 90 वनडे मैचो में 44.45 की शानदार औसत से 3779 रन बनायें है, जिस दौरान धवन ने 11 शतक भी लगायें हैं.

5) नारी कांट्रेक्टर

Image result for nari contractor
गुजरात के प्रतिभशाली और कुशलतम खिलाडियों में से एक रहे  नारी कांट्रेक्टर भारत के सबसे सफल बाएं हाथ के खिलाडियों में से एक हैं. करियर के दौरान लगातार चोटों के कारण नारी ज्यादा समय तक भारत के लिए अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेल पायें.

नारी कांट्रेक्टर ने अपने करियर के दौरान 31 टेस्ट मैचो में 31.58 की औसत से 1611 रन बनायें, जिस दौरान नारी ने एक शतक और 11 अर्धशतक भी लगायें.

4) अजित वाडेकर
Image result for ajit wadekar
भारत के सबसे सफलतम नंबर 3 बल्लेबाजों में से एक अजित वाडेकर वनडे क्रिकेट में भारत के पहले कप्तान रहे हैं. पारी दौरान स्तिथि के अनुसार लम्बी पारी खेलने में माहिर अजित वाडेकर ने भारत से अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट बेहद कम खेला, हालाँकि घरेलु क्रिकेट में वाडेकर का रिकॉर्ड अद्भुत हैं.

अजित वाडेकर ने अपने करियर के दौरान 37 टेस्ट मैचो की 71 पारियों में 31.07 की औसत से 2113 रन बनाये, जिस दौरान वाडेकर ने एक शतक और 14 अर्धशतक भी लगायें. घरेलु क्रिकेट में वाडेकर ने 50 की करीब की औसत से 15 हज़ार से अधिक रन बनायें.

3) गौतम गंभीर
Image result for GAMBHIR
गौतम गंभीर भारत के अनसंग हीरो रहे है. वर्ष 2009 में गंभीर टेस्ट क्रिकेट में नंबर एक रैंक पर रहे थे.

गौतम गंभीर भारत के लिए तीनों फॉर्मेट में बेहद सफल रहे. गंभीर सहवाग के साथ भारत को शानदार और तेज शुरुआत दिलाने के लिए जाने जाते थे. गंभीर ने नाम अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में 10 हज़ार के करीब रन हैं. आईसीसी विश्व फाइनल में 97 रनों की पारी उनके करियर की सबसे यादगार पारी में से एक हैं.

गंभीर ने अपने करियर के दौरान 58 टेस्ट मैचो में 42 की औसत और 9 शतको की मदद से 4154 रन बनायें, जबकि वनडे क्रिकेट में गंभीर ने 147 मैचो में 40 के करीब की औसत से 5238 रन बनाये, इस दौरान उन्होंने 11 शतक भी लगायें.

2) युवराज सिंह
Image result for YUVI
युवराज सिंह का अन्तराष्ट्रीय करियर बेहद शानदार रहा हैं. युवराज सिंह वर्ष 2000 में केनिया के विरुद्ध 80 गेंदों पर 84 रनों की शानदार पारी खेलकर अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा.

वर्ष 2002 में लॉर्ड्स के मैदान पर नेटवेस्ट सीरीज के ऐतिहासिक जीत के दौरान युवराज ने यादगार पारी खेली थी. इसके आलावा टी-ट्वेंटी विश्वकप 2007 और आईसीसी विश्वकप 2011 में युवराज सिंह की जीत के हीरो रहे थे. अन्तराष्ट्रीय टी-ट्वेंटी क्रिकेट में एक ओवर में 6 छक्के मारने वाले युवराज सिंह विश्व के एकलौते बल्लेबाज़ हैं.

युवराज सिंह ने अपने करियर के दौरान 304 वनडे मैचो में 36.55 की औसत से 8701 रन बनायें है, जिस दौरान युवी ने 14 शतक और 52 अर्धशतक भी लगाये हैं.

1) सौरव गांगुली
Related image
ऑफ-साइड के महाराज कहे जाने वाली सौरव गांगुली विश्व के सबसे सफ़ल बाएं हाथ के बल्लेबाजों में से एक हैं. गांगुली ने अपने वनडे करियर के दौरान 11000  से अधिक रन बनायें.

लॉर्ड्स टेस्ट में शानदार शतक लगाकर टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू करने वाली गांगुली ने टेस्ट क्रिकेट में भी शानदार प्रदर्शन किया हैं, हालाँकि गांगुली वनडे क्रिकेट में ज्यादा सफल रहे.

गांगुली ने अपने करियर के दौरान 113 टेस्ट मैचो में 42.17 की औसत से 7212 रन बनाये, जिस दौरान गांगुली ने 16 शतक भी लगायें. वनडे क्रिकेट में गांगुली ने 311 मैचो की 300 पारियों में 41 की औसत से 11363 रन बनाये, जिस दौरान गांगुली ने 22 शतक भी लगायें.